♠ द्रौपदी का पुण्य ♠

 
♥ इँसान जैसा करता है कुदरत या भगवान उसे वैसा ही उसे लौटा देता है l ♥

www.sahityasafar.blogspot.com

एक बार द्रौपदी सुबह तड़के स्नान करने यमुना घाट पर गयी भोर का समय था तभी उसका ध्यान सहज ही एक साधु की ओर गया जिसके शरीर पर मात्र एक लँगोटी थी l

साधु स्नान के पश्चात अपनी दुसरी लँगोटी लेने गया तो वो लँगोटी अचानक हवा के झोके से उड़ पानी मे चली गयी ओर बह गयी l

सँयोगवस साधु ने जो लँगोटी पहनी वो भी फटी हुई थी l
साधु सोच मे पड़ गया कि अब वह अपनी लाज कैसे बचाए थोड़ी देर मे सुर्योदय हो जाएगा और घाट पर भीड़ बढ जाएगी l साधु तेजी से पानी के बाहर आया और झाड़ी मे छिप गया l

www.sahityasafar.blogspot.com

द्रौपदी यह सारा दृश्य देख अपनी साड़ी जो पहन रखी थी उसमे आधी फाड़ कर उस साधु के पास गयी ओर उसे आधी साड़ी देते हुए बोली, '' तात मै आपकी परेशानी समझ गयी l इस वस्त्र से अपनी लाज ढँक लीजिए l ''

साधु ने सकुचाते हुए साड़ी का टुकड़ा ले लिया और आशीष दिया कि '' जिस तरह आज तुमने मेरी लाज बचायी उसी तरह एक दिन भगवान तुम्हारी लाज बचाएगे l ''

और जब भरी सभा मे चीरहरण के समय द्रौपदी की करुण पुकार नारद ने भगवान तक पहुचायी तो भगवान ने कहा-कर्मो के बदले मेरी कृपा बरसती है क्या कोई पुण्य है द्रोपदी के खाते मे l

www.sahityasafar.blogspot.com

जाँचा परखा गया तो उस दिन साधु को दिया वस्त्र दान हिसाब मे मिला जिसका ब्याज भी कई गुणा बढ गया था l जिसको चुकता करने भगवान पहुच गये द्रोपदी की मदद करने l दुस्सासन चीर खीचता गया और हजारो गज कपड़ा बढता गया l

♦ इँसान यदि सुकर्म करे तो उसका फल सूद सहित मिलता है ओर दुस्कर्म करे तो सूद सहित भोगना पड़ता है l ♦

No comments:

Post a Comment